कांगड़ा में पैराग्लाइडिंग को मिलेगी ‘नई उड़ान’

121

कांगड़ा जिला को साहसिक पर्यटन हब के रूप में विकसित किया जा रहा है। इस मकसद से जिला प्रशासन कांगड़ा में पैराग्लाइडिंग गतिविधियों को नई उड़ान देने में जुटा है। जिले की चारों पैराग्लाइडिंग साइट के विकास और वहां सुविधाओं के विस्तार की दिशा में तत्परता से काम किया जा रहा है।

उड़ान भरने का स्थान बिलिंग

उपायुक्त डा. निपुण जिंदल ने यह बात गुरुवार को धर्मशाला में आयोजित जिला स्तरीय पैराग्लाइडिंग नियामक समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही। उपायुक्त ने कहा कि मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू का विजन है कि कांगड़ा जिले को पर्यटन राजधानी के रूप विकसित किया जाए।

 

उनके इस विजन को साकार करने में यहां पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा देने विशेषकर जिले को साहसिक पर्यटन का हब बनाने की दिशा में काम किया जा रहा है। पैराग्लाइडिंग गतिविधियां साहसिक पर्यटन की महत्त्वपूर्ण घटक हैं।

जिले में अभी चार पैराग्लाइडिंग साइट बीड़ बिलिंग, इंद्रूनाग, नरवाणा और मझीण हैं। उन्होंने अधिकारियों को इन चारों पैराग्लाइडिंग साइट के विकास और वहां सुविधाएं बढ़ाने के लिए काम करने को कहा।

उन्होंने इन जगहों पर टेक ऑफ तथा लैंडिंग साइट के विस्तार के लिए भूमि अधिग्रहण को लेकर औपचारिकताएं पूरी कर मामले बनाने के निर्देश दिए।

बैठक में एडीएम रोहित राठौर, पर्यटन विभाग के उपनिदेशक विनय धीमान, एसडीएम बैजनाथ सलीम आजम और एसडीएम धर्मशाला शिल्पी बेक्टा तथा जिले भर की पैराग्लाइडिंग एसोसिएशन अथवा संचालन इकाइयों के प्रतिनिधि और विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

डा. निपुण जिंदल ने बीड़ बिलिंग क्षेत्र में विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण साडा के माध्यम से स्वच्छता सुनिश्चित बनाने के निर्देश दिए। टेक ऑफ तथा लैंडिंग साइट पर साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखें।

उन्होंने कहा कि बीड़ में 16 लाख से प्लास्टिक ठोस कूड़ा प्रबंधन यूनिट लगाई जाएगी। इसके लिए धनराशि जारी की जा चुकी है।

Leave a Reply