बर्फबारी से जनजीवन अस्तव्यस्त, ट्रांसफार्मर ठप, अंधेरे में डूबे सैंकड़ों गांव

94

हिमाचल प्रदेश में बुधवार को भी बारिश-बर्फबारी का दौर जारी है। ताजा बर्फबारी से प्रदेश भर में शीतलहर है, जिससे लोगों की दुश्वारियां बढ़ गई हैं। राज्य के उंचाई वाले क्षेत्रों में बीते कल से रूक-रूक कर बर्फबारी और अन्य इलाकों में बारिश हो रही है।

जिससे प्रचंड शीत लहर बढ़ गई है। लाहौल स्पिति, मनाली, रोहतांग, किन्नौर, चंबा, डलहौजी व कांगड़ा की धौलाधार की पहाड़ियों सहित अन्य ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी हो रही है।

मौसम विभाग की माने तो कल से प्रदेश में बर्फबारी-बारिश का दौर कम हो जाएगा। हालांकि 29 जनवरी तक कुछ स्थानों पर बर्फबारी व बारिश होने की संभावना व्यक्त की गई है।

मौसम विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक लाहौल स्पीति के गोंडला में सबसे ज्यादा 50.5 सेंटीमीटर बर्फबारी हुई है, जबकि लाहौल स्पीति के ही कुकुम्सेरी में 32.3, केलांग में 23.0 और हंसा में 20.0 सेंटीमीटर बर्फबारी रिकॉर्ड की गई है।

चंबा के सलूणी में 45.7 व भरमौर में 30.0 सेंटीमीटर बर्फ पड़ी है। कुल्लू के कोठी में 10.0 सेंटीमीटर हिमपात हुआ है। जिला शिमला के खद्राला में 8.0, शिल्लारू में 5.0 और चौपाल में 3.0 सेंटीमीटर बर्फबारी हुई है।

किन्नौर के सांगला में 8.1 व पुह् में 2.5 सेंटीमीटर बर्फ दर्ज हुई है। बर्फबारी के चलते राज्य की चार जगहों का पारा माइनस में चला गया है।

लाहौल-स्पीति जिला के मुख्यालय केलांग में न्यूनतम तापमान माइनस 4.7 डिग्री, कुकुमसेरी -2.5, नारकंडा में -0.5 डिग्री व कल्पा में -1.2 डिग्री सेल्सियस रहा। प्रदेश के नगरोटा सुरियां में सबसे ज्यादा 90 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई।

himachal-weather-rain-and-snowfall-yellow-alert

हिमाचल में तीन नेशनल हाईवे समेत 262 सड़कें अवरुद्ध हैं। रोहतांग दर्रा नेशनल हाईवे-03, जलोड़ी दर्रा नेशनल हाईवे-305 और ग्रांफू से लोसर नेशनल हाईवे-505 पूरी तरह अवरुद्ध हैं।

लाहौल-स्पीति जिले में सबसे ज्यादा 139 सड़कों पर आवाजाही बंद है। चंबा जिले में 92, कांगड़ा में दो, कुल्लू में 13, मंडी में सराज उपमंडल में तीन और शिमला में चौपाल और डोडरा क्वार उपमंडल की 13 सड़कें अवरुद्ध हैं।

प्रदेश भर में 889 बिजली ट्रांसफार्मर ठप हो गए हैं। कई क्षेत्रों में ब्लैकआउट छा गया है। चंबा, डलहौजी, तीसा, सलूणी, भरमौर, पांगी, भटियात उपमंडलों में 793 बिजली ट्रांसफार्मर ठप हैं।

किन्नौर में 11, लाहौल-स्पीति में 95 बिजली ट्रांसफार्मर ठप हैं। वहीं 29 जलापूर्ति योजनाएं भी प्रभावित है। चंबा जिले के तीसा, सलूणी और भरमौर उपमंडल में 27 और लाहौल, उदयपुर में एक-एक जलापूर्ति योजना प्रभावित है।

लाहौल-स्पीति के उपायुक्त सुमित खिमटा ने एडवाइजरी जारी कर लोगों से सावधानी बरतने की अपील की है। उन्होंने अपील की है कि अधिक ऊंचाई वाले इलाकों की ओर जाने से परहेज करें।

उधर, स्पीति घाटी के ज्यादातर हिस्सों में बर्फबारी हो रही है। लिहाजा स्पीति प्रशासन ने भी यात्रियों को अनावश्यक यात्रा से बचने के लिए कहा है।

उन्होंने मौसम के रुख को देखते हुए सभी पर्यटकों और अन्य लोगों को ऊंचाई वाले क्षेत्रों की ओर न जाने की हिदायत दी है। बुधवार के लिए भी भारी बर्फबारी का येलो अलर्ट जारी किया गया है।

Leave a Reply