सामने आया नेरवा बस हादसे के पीछे का चौंकाने वाला सच

बुधवार को शिमला के चौपाल  क्षेत्र  के गुम्मा में  भीषण बस हादसे में 45 लोगों की आसामयिक मृत्यु हो गयी थी

nerwa bus accident
नेरवा बस हादसे में 45 लोगों की मृत्यु हो गयी. फोटो: NewsGhat

हिमाचल के नेरवा क्षेत्र के गुम्मा में हुए बस हादसे के पीछे का चौंकाने वाला सच सामने आया है। मौके पर मौजूद लोगों और हादसे में बचे युवक ने जब दुर्घटना के संभावित कारण का खुलासा किया तो हर कोई गुस्से से भर गया।

उत्तराखंड की सीमा के साथ शिमला जिले की अंतिम तहसील नेरवा के गुम्मा इलाके के नजदीक हुए भीषण बस हादसे में 45 लोगों की जानें चली गई। यह बस 800 मीटर गहरी खाई में गिर गई और टौंस नदी के तट पर गिर गयी जिससे बस के परखच्चे उड़ गए। हादसे की वजह खराब सड़क या ओवरलोडिंग को माना जा रहा था लेकिन ‘अमर उजाला’ के अनुसार असली वजह कुछ और ही थी।

Nerwa Bus Accident - बस हादसे
टोंस नदी में गिरी बस के परखच्चे उड़ गये. फोटो: NewsGhat

अब तक की पूछताछ में सामने आया है कि उत्तराखंड की यह प्राइवेट बस बहुत पहले से ही खराब थी. इस बस में तकनीकी खराबी होने के बावजूद इसे चलाया जा रहा था। मौके पर पहुंचे लोगों ने बताया कि बस को मिनस पुल के पास चालक ने मकैनिक के पास खड़ा कर दिया था।

सूत्रों की माने तो वहां पर परिचालक ने बस की टूटी कमानी को तार से बांध कर चालक को धीरे-धीरे चलने के लिए मजबूर किया। बस हादसे का शिकार हो सकती है ये जानते हुए भी परिचालक सवारियों के लालच में इसे पीछे से आ रही दूसरी बस के आगे ही चलवाता रहा।

nerwa bus accident
नेरवा के गुम्मा में टोंस नदी में गिरी बस.

लोगों ने बताया कि इस बस के पीछे एक प्राईवेट बस भी चल रही थी। बस खराब होने के बावजूद तेज रफ्तार में भी थी जिससे हादसा हो गया। वहीं हादसे के वक्त परिचालक और एक अन्य युवक खिड़की से बाहर सड़क पर कूद गए। इससे इन दोनों की जान बच गई जबकि बाकी सब लोग इस दुखदायी हादसे का शिकार हो गए।

रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान कुछ शव खाई की ढलान पर झाडि़यों से निकाले गए। कई शव क्षत-विक्षत हालत में नदी किनारे बिखरे पड़े थे। मृतकों के शवों से रिसे खून से नदी के तट का पानी भी लाल हो गया था।

प्रत्यक्षदर्शी की माने तो हादसे के समय 13 साल का लड़का रविन्द्र और बस का कंडक्टर चलती बस में से कूद गए. 1500 फिट गहरी खाई में बस गिरी है और स्थानीय लोगों कि मानें तो उन्होंने नदीं में लाशों को बहते हुए देखा।

हादसे में 45 लोगों के शव मौके पर मिले हैं। कुछ लोगों के नदी में बहने की आशंका भी जताई जा रही है। वीरवार सुबह तक 33 शवों की ही पहचान हो सकी थी। एसडीएम चौपाल अनिल चौहान ने बताया कि 45 लोगों के शव मौके पर मिले हैं।

Comments

comments

Leave a Reply