पहले चरण में छह जिलों में बनेंगे हेलिपोर्ट; समीक्षा बैठक में पर्यटन विभाग ने दी प्रेजेंटेशन

111

प्रदेश की जनता को हेली टैक्सी की सुविधा से जोडऩे के लिए कांग्रेस सरकार ने हर जिला में हेलिपोर्ट बनाने का फैसला लिया है। सत्ता में आते ही मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने इसकी घोषणा की थी। अधिकारियों के साथ पर्यटन विभाग की समीक्षा बैठक में अधिकारियों ने हेलिपोर्ट निर्माण पर एक विस्तृत प्रेजेंटेशन दी।

इसमें मुख्यमंत्री के आदेशों के बाद यह तय किया गया है कि प्रथम चरण में इसमें छह जिले लिए जाएंगे, जहां पर ये हेलिपोर्ट बनने हैं। इसमें कुल्लु, कांगड़ा, चंबा, स्पीति, हमीरपुर और किन्नौर शामिल हैं। उसके बाद अन्य जिलों के लिए योजना तैयार होगी। इसके लिए विभिन्न जिलों के डीसी को पहले ही भूमि का चयन करने के निर्देश जारी किए गए थे।

बैठक में तय किया गया कि जल्द से जल्द अब हेलिपोर्ट निर्माण पर काम होगा। ये हेलिपोर्ट अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस होंगे। इसके साथ ही अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को बताया कि छह जिलों के लिए जो जगह देखी गई है, उसमें कुछ भूमि पर एफसीए केस भी है।

ऐसे में वन विभाग के अधिकारियों को बैठक में निर्देश दिए गए कि एक सप्ताह के भीतर ये मामले केंद्र को भेजे जाएं, ताकि जल्द से जल्द एफसीए केस को मंजूरी मिल सके। एक हेलिपोर्ट के निर्माण पर प्रदेश सरकार करीब चार से पांच करोड़ खर्च करेगी।

heliports-will-be-built-in-six-districts

इन जिलों में हुआ जगह का चयन

प्रदेश के छह जिलों में से कुल्लू के पिरडी, हमीरपुर के विकासनगर, कांगड़ा के रक्कड़, किन्नौर के शारबोंं, चंबा के सुल्तानपुर और लाहुल स्पीति के जिस्पा और रांगरक में हेलिपोर्ट के लिए जगह देखी गई है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने एडीबी के विभिन्न प्रोजेक्टों पर भी समीक्षा की और एफसीए केस की भी जानकारी ली।

Leave a Reply