बरसों बाद फिर शुरू हुई परंपरा, भव्य शोभायात्रा के साथ टारना माता मेले का आगाज

44

श्रद्धा और आस्था के साथ परंपरागत टारना माता मेले का सोमवार को आगाज हुआ। मेले के आगाज के लिए राज देवता माधो राय के मंदिर में पूजा-अर्चना के बाद शोभायात्रा निकाली गई। नवरात्र के दौरान मंडी में टारना माता मेला मनाने की परंपरा कोरोना महामारी के चलते दो बरसों बाद फिर शुरू हुई।

इस मौके नगर निगम की महापौर दीपाली जसवाल ने मेले का शुभारंभ करते हुए राज देवता माधो राय के मंदिर में पूजा-अर्चना के बाद शोभायात्रा की अगवाई की। उनके साथ नगर निगम के उप महापौर वीरेंद्र भट्ट सहित नगर निगम के पार्षद मौजूद रहे ।

इसके बाद महापौर दीपाली जसवाल ने टारना माता मंदिर में विधिवत पूजा-अर्चना के पश्चात कन्या पूजन किया। इस मौके दीपाली जसवाल ने मेले की शुभकामनाएं देते हुए सभी से अपने गौरवशाली अतीत को याद रखने और समृद्ध सांस्कृतिक परंपराओं के संरक्षण व संवद्र्धन में योगदान देने का आग्रह किया है।

उन्होंने परंपरागत टारना माता मेला दो वर्षों बाद शुरू करने के लिए नगर निगम मंडी के समस्त पदाधिकारियों व सदस्यों को सराहना की है। उन्होंने कहा कि टारना माता मेला शुरू होने से नई पीढ़ी अपनी कला संस्कृति से रू-ब-रू सभी से अपनी संस्कृति, रीति-रिवाज और पंरपराओं को जीवित रखने और आगे बढ़ाने में सहयोग का आह्वान किया।

उन्होंनेे बताया कि इस मेले का आयोजन प्राचीन समय में होता आया है, जोकि समय के कालचक्र के चलते बंद हो गया था, मगर विगत नगर परिषद के समय में वर्ष 2019 में इस मेले का पुन: प्रारंभ किया गया, परंतु कोरोना काल में फिर से बंद हो गया था, सिर्फ पूजा अर्चना ही की गई। लेकिन अब सभी व्यवस्था बेहतरीन होने के साथ परंपरागत टारना माता मेला शुरु हुआ है।

यह भी पढ़ें:-

शिवधाम के नाम से प्रसिद्ध है कांगड़ा घाटी में स्थित बैजनाथ शिव मंदिर

Leave a Reply