धमकी देने वाले पन्नू पर राजद्रोह का केस, केंद्रीय एजेंसियों से भी मांगी मदद

हिमाचल को धमकी देने वाले खालिस्तानी समर्थकों के खिलाफ हिमाचल पुलिस के साथ केंद्रीय एजेंसियों ने भी कार्रवाई तेज कर दी है। हिमाचल पुलिस ने इस मामले में केंद्रीय एजेंसियों से मदद मांगी है, ताकि इस केस को क्रेक डाउन किया जा सके। वहीं, सिख फॉर जस्टिस संस्था के सरगना गुरपतवंत सिंह पन्नू के खिलाफ स्टेट साइबर क्राइम पुलिस ने राज्य के खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज कर लिया है।

पन्नू के खिलाफ आईपीसी की धारा 124 यानी सीडीशन अगेंस्ट स्टेट के साथ आईपीसी 153-ए (प्री-ज्यूडिशियल टू मेंटेनेंस ऑफ हॉरमनी) आईपीसी 506 और क्रीमिनल कांस्पीरेंसी की धारा 120-बी के तहत मामला दर्ज किया गया है। इसके अलावा अन लॉ फुल एक्टिविटी प्रीवेंशन एक्ट 1967 की धारा-13 व आईटी एक्ट की धारा 66-सी के तहत भी मुकद्दमा दर्ज किया गया है। प्रदेश के मान्यता प्राप्त पत्रकारों व कई अन्य लोगों को शुक्रवार को रिकार्डेड वायस कॉल आई थी, जिसमें मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को झंडा न फहराने की चेतावनी दी।

खालिस्तानी समर्थक पंजाब के साथ हिमाचल पर कब्जा करने की नीयत रखते हैं, जिनका कहना है कि हिमाचल पंजाब का हिस्सा है। सिख फॉर जस्टिस संस्था यूएसए के अलग-अलग स्थानों  से चल रही है, जिनकी खालिस्तानी समर्थन की गतिविधियों को देखकर भारत सरकार ने इसे 10 जुलाई, 2019 को प्रतिबंधित कर रखा है। इस प्रतिबंधित संस्था के सरगना ने हिमाचल को धमकी दी है जिस पर मामला दर्ज किया गया है।

यूएसए के अलावा कई दूसरे देशों से यह संस्था चल रही है। इस ऑडियो क्लिप को लेकर राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जांच का काम शुरू हो चुका है। एजेंसियां देख रही हैं कि आखिर ये क्लिप कहां से जारी हुई है और इसके पीछे का मकसद क्या है। बहरहाल पुलिस अपनी जांच कर रही है और प्रदेश के लोग पूरी तरह से सरकार के साथ हैं। लोगों की सोशल मीडिया पर बड़ी प्रतिक्रिया रही है जिनका कहना है कि वो सरकार के साथ हैं और झंडा अवश्य फहरेगा।

सरकार नहीं डरने वाली

खालिस्तान मामले पर प्रदेश सरकार ने एक बार फिर साफ कहा है कि वो किसी भी चेतावनी से डरने वाली नहीं है। 15 अगस्त को बाकायदा देश का तिरंगा झंडा फहराया जाएगा।

एसडीएम आफिस में भी धमकी भरे कॉल

शाहपुर। खालिस्तानी समर्थकों का धमकी भरे कॉल अब कांगड़ा जिला के शाहपुर एसडीएम आफिस में आया है। उपमंडल अधिकारी नागरिक शाहपुर डा. मुरारी लाल ने बताया कि कंट्रोल रूम में शनिवार शाम करीब सवा छह बजे अज्ञात नंबर से फोन आया। इसमें खालिस्तान समर्थक धमकी दे रहे हैं।

Comments

comments

Leave a Reply