मई महीने में बर्फबारी, सफेद हुए किन्नौर के ऊंचाई वाले इलाके, बढ़ सकती हैं बागबानों की चिंताएं

189

जनजतीय जिला किन्नौर में पिछले तीन दिन से रुक-रुक कर हो रही बारिश के बाद सोमवार देर रात को जिला के ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी से ठंड में भारी इजाफा दर्ज किया जा रहा है। पर्यटन स्थल छितकुल, असरंग, नेसंग, हांगो, चूलिंग, नाको, चांगो, कुन्नू चरंग व रोपा आदि कई क्षेत्रों में बर्फ की सफेद चादर लिपट गई है।

किन्नौर में हो रही बारिश व बर्फबारी के साथ मई महीने में शीत हवाएं चलने से ठंड में बारी इजाफा दर्ज किया जा रहा है। छितकुल, आसरंग, रोपा आदि क्षेत्रों में तो 6 इंच के करीब बर्फ दर्ज किया जा रहा है। रोपा, नाको, आसरंग, लिप्पा, नेसंग, कल्पा, मेंबर, ठंगी, रिब्बा आदि कई क्षेत्रों में फूलो से लदे सेब के पेड़ों को बर्फ ने ढक दिया है।

बता दें कि इन दिनों जिला में ऊंचाई वाले क्षेत्रों में सेब फ्लॉवरिंग यौवन पर है। सेब फ्लॉवरिंग के दौरान सेब के फूलों पर बर्फ उडऩे से सेब सेटिंग पर प्रतिकूल प्रभाव उडऩे का खतरा रहता है, लेकिन इस बर्फबारी से सेब सेटिंग पर कितना प्रभाव डाला होगा, अभी कहना जल्दबाजी होगा। बता दें कि वर्ष 2021 में भी अप्रैल महीने में जिला में बर्फबारी हुई थी, जिससे सेब पर खासा असर देखने को मिला था।

 

Leave a Reply