अब शिमला शहर में एचआरटीसी की सिर्फ इलेक्ट्रिक बसें चलेंगी

61

शिमला शहर में हिमाचल पथ परिवहन निगम की सिर्फ इलेक्ट्रिक बसें ही चलेंगी। शिमला को पूरी तरह स्मार्ट सिटी बनाने के लिए सभी डीजल बसों को चरणबद्ध तरीके से हटाया जाएगा। शिमला से धर्मशाला और मनाली के लिए वोल्वो बसों को हरी झंडी दिखाने के बाद परिवहन मंत्री बिक्रम ठाकुर ने यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि इलेक्ट्रिक बसों के सुगम संचालन के लिए शिमला में आधारभूत ढांचा विकसित किया जा रहा है। इसी कड़ी में एचआरटीसी की तारादेवी वर्कशाप में 3.60 करोड़ की लागत से आधुनिक इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन और वर्कशाप तैयार की जाएगी। ढली, ओल्ड बस स्टैंड और आईएसबीटी में लगे इलेक्ट्रिक बसों के चार्जिंग स्टेशनों की क्षमता बढ़ाई जाएगी।

मौजूदा समय में शहर में 50 इलेक्ट्रिक बसें चल रही हैं, जिनमें 25 बड़ी और 25 छोटी बसें हैं। स्मार्ट सिटी मिशन के तहत 25 अतिरिक्त इलेक्ट्रिक बसें शिमला को मिलने वाली हैं। इनमें से एक बस का शिमला में सफल ट्रायल किया जा चुका है। इसी माह यह 25 बसें शिमला पहुंच जाएंगी।

वोल्वो और हिमदर्शन बसों के लिए नए शेड

वोल्वो और हिमदर्शन बसों के लिए 5 करोड़ की लागत से 24 शेड बनेंगे। इनमें 8 शेड 12 मीटर लंबे होंगे। 4 वोल्वो और 4 हिमदर्शन डीलक्स बसों के लिए तैयार होंगे। साधारण बसों के लिए 10 मीटर लंबे 16 शेड बनाए जाएंगे। इन शेडों में मेकेनिक बसों की अंडर चैसी इंस्पेक्शन आसानी से कर सकेंगे।

दिवाली पर ऑनलाइन उपलब्ध हाेंगी अतिरिक्त बसें

दिवाली पर एचआरटीसी दिल्ली, चंडीगढ़ और बद्दी से यात्रियों की सुविधा के लिए अतिरिक्त बसों का संचालन करेगा। 21 और 22 अक्तूबर के लिए अधिकतर रूटीन बसें बुक हो चुकी हैं। अन्य बसें भी आनॅलाइन उपलब्ध करवाई जाएंगी। 26, 27, 28 अक्तूबर के लिए भी अतिरिक्त बसें ऑनलाइन उपलब्ध करवाई जाएंगी।

Leave a Reply