एचआरटीसी में ओपीएस, नहीं कटेगा एनपीएस शेयर, बीओडी से स्वीकृति के बाद प्रबंधन ने जारी की अधिसूचना

204

शिमला: एचआरटीसी के एनपीएस कर्मचारियों के लिए भी अब पुरानी पेंशन प्रणाली को बहाल कर दिया गया है। एचआरटीसी की बीओडी से स्वीकृति मिलने के बाद एचआरटीसी प्रबंधन ने इस बारे में अधिसूचना जारी कर दी है।

बुधवार को एचआरटीसी के प्रबंध निदेशक संदीप कुमार की ओर से इस बारे में अधिसूचना जारी की गई है। इसमें कहा गया है कि एचआरटीसी ने बीओडी की स्वीकृति के बाद राज्य सरकार की ओर से पुरानी पेंशन बहाली और एनपीएस का शेयर न काटने को लेकर जारी किए गए ऑफिस मेमो को अपना लिया है।

इसके तहत अब एचआरटीसी कर्मचारियों के लिए भी पुरानी पेंशन प्रणाली बहाल की गई है। एचआरटीसी कर्मचारियों से 60 दिनों के अंदर उनकी राय मांगी गई है।

यानी कर्मचारियों को अपना ऑप्शन बताना होगा कि वह एनपीएस लेना चाहते हैं या फिर पुरानी पेंशन। इस बारे में एचआरटीसी के प्रबंध निदेशक संदीप कुमार की ओर से सभी डिवीजन प्रबंधकों को आदेश जारी किए गए है।

NPS share will not be deducted in HRTC

इन आदेशों में कहा गया है कि राज्य सरकार की ओर से जारी किए गए आदेशों की अनुपालना की जाए और इस अधिसूचना की एक प्रतियां सभी डिपो में लगाई जाए, ताकि एचआरटीसी के सभी कर्मचारी 60 दिनों के भीतर अपना ऑप्शन चुन सके। गौरतलब है कि हिमाचल प्रदेश के बाकी विभागों में यह अधिसूचना पहले ही जारी हो गई थी।

बिजली बोर्ड और एचआरटीसी में इस बारे में आदेश होने बाकी थे। अब मंजूरी मिलने के बाद इस अधिसूचना को एचआरटीसी कर्मचारियों के लिए लागू कर दिया है।

एचआरटीसी प्रबंधन की ओर से जारी आदेशों के साथ एसओपी की एक कॉपी भी अटैच की गई है। इसमें बताया गया है कि प्रदेश में किस प्रकार पुरानी पेंशन प्रणाली को लागू किया जा रहा है।

कर्मचारियों ने कहा थैंक्स

एचआरटीसी में पुरानी पेंशन प्रणाली की बहाली को लेकर हुई अधिसूचना के बाद कर्मचारी खुश है। एचआरटीसी संयुक्त समन्यव समिति के महासचिव खेमेंद्र गुप्ता और अध्यक्ष समर चौहान ने बताया कि कर्मचारियों की पुरानी पेंशन बहाली की लम्बित मांग को एचआरटीसी प्रबंधन द्वारा एचआरटीसी के एनपीएस कर्मचारियों को ओपीएस एडॉप्ट करने बारे अधिसूचना जारी कर दी गई है। परिवहन कर्मचारी संयुक्त समन्वय समिति हार्दिक स्वागत करती है। उन्होंने उप मुख्यमंत्री मुकेश अग्निहोत्री का आभार भी व्यक्त किया है।

Leave a Reply