लॉक डाउन के दौरान दिल्ली से घर पहुंचने पर घिरे सांसद ने नकारे सारे आरोप

शिमला : प्रदेश कांग्रेस ने सासंद रामस्वरूप शर्मा पर लॉकडाउन नियमों के उल्लंघन का आरोप जड़ा है। पार्टी अध्यक्ष कुलदीप राठौर ने कहा कि राज्य के हजारों लोग, छात्र, श्रमिक प्रदेश के भीतर व अन्य राज्यों में लॉकडाउन की वजह से पिछले 22 दिनों से फंसे पड़े हैं।

उनको यहां आने की कोई भी अनुमति नहीं मिल रही है और दूसरी ओर भाजपा के नेता को कहीं भी आने-जाने की छूट मिल रही है, जो कि आम लोगों के साथ एक बड़ा अन्याय है।

वहीँ सांसद रामस्वरूप शर्मा ने इन सारे आरोपों को सिरे से नकार दिया है. सांसद का कहना है कि क्षेत्र की जनता ने उन्हें चुनकर सेवा करने के लिए सांसद बना कर भेजा है तथा जनता की सेवा करना उनका कर्तव्य है।

इसलिए इस बडे़ संकट में अपनी जनता का साथ देने के लिए वह दिल्ली से मंडी आए हैं।

एक समान हो नियम

राठौर ने कहा है कि कानून सब के लिए एक समान लागू होना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश के भीतर और बाहर फंसे लोग उनसे व कांग्रेस के नेताओं से अपने घर पहुंचाने की गुहार लगा रहे हैं।

राठौर ने कहा है कि दूसरे चरण का लॉकडाउन तीन मई तक चलना है, ऐसे में प्रदेश में इन लोगों को विशेष अनुमति के साथ इनके घर पहुंचाने की व्यवस्था की जाए, ताकि इन विकट परिस्थितियों में वे परिवार के साथ रह सकें।

जनता का साथ देने के लिए लौटा : सांसद

लॉकडाउन और कर्फ्यू के बीच मंडी के सांसद रामस्वरूप शर्मा के दिल्ली से अपने घर जोगिन्दरनगर आने पर सोशल मीडिया पर छिडे़ विवाद व कांग्रेस नेताओं की आपत्तियों को सांसद ने नकार दिया है।

सांसद रामस्वरूप शर्मा ने कहा कि क्षेत्र की जनता ने उन्हें चुनकर सेवा करने के लिए सांसद बना कर भेजा है तथा जनता की सेवा करना उनका कर्तव्य है। इसलिए इस बडे़ संकट में अपनी जनता का साथ देने के लिए वह दिल्ली से मंडी आए हैं।

11 अप्रैल को पहुंचे थे

उन्होंने कहा कि 11 अप्रैल को जोगिन्दरनगर पहुँचने  के बाद अपने कार्यालय में क्वारंटाइन में हैं और 14 दिन पूरे होने के बाद भी जनता के बीच जाएंगे।

उन्होंने कहा कि आपत्तियां उठाने वाले यह वही लोग वहीं हैं, जो देश के साथ खड़े न होकर देश के दुश्मनों के साथ खड़े रहते हैं।

कांग्रेस पर जड़े आरोप

काग्रेंस हीन भावना से ग्रसित लोगों का टोला है। यह आरोप भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता शशि दत्त लगाया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस हीन भावना से ग्रसित लोगों का टोला है.

उन्होंने मंडी से संसद रामस्वरूप शर्मा एवं कांगड़ा से किशन कपूर के लॉकडाउन में अपने संसदीय क्षेत्र में आने पर प्रश्न खड़ा करने पर कहा कि संकट की इस घड़ी में सांसद अपने संसदीय क्षेत्र आए है।

यह एक चुने हुए प्रतिनिधि का दायित्व है कि वह संकट के समय अपने क्षेत्र में अपने लोगों के सुख-दुःख में उनके साथ खड़ा रहे न कि कांग्रेस नेताओं  की तरह ऐसे समय अज्ञात वास पर चला जाए।

Comments

comments

Leave a Reply