मणिकर्ण में 5 पर्यटकों पर जानलेवा हमला, एक की मौत, 6 हमलावर गिरफ्तार

111

जोगिन्दर नगर।। मणिकर्ण के खीरगंगा ट्रैकिंग रूट पर 5 पर्यटकों पर जानलेवा हमला हुआ है। इसमें एक पर्यटक की मौत हो गई है। पर्यटक दिल्ली-हरियाणा के बताए जा रहे हैं। कुल्लू पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए छह आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है और युवक के शव को अपने कब्जे में ले लिया है। उक्त युवक के साथ आए दोस्तों की शिकायत पर पुलिस ने आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है।

पुलिस अधीक्षक कुल्लू गुरदेव शर्मा से मिली जानकारी के अनुसार 19 जुलाई को प्रतीक कुंडू (24) निवासी सोनीपत (हरियाणा) ने मामला दर्ज करवाया है। शिकायत के अनुसार वह अपने चार दोस्तों के साथ मणिकर्ण घूमने आया था। 14 जुलाई को वे मणिकर्ण पहुंचे थे। 15 जुलाई को सभी ने मणिकर्ण में ही ठहराव किया और 16 जुलाई को प्रतीक व अन्य चारों दोस्त गाड़ी लेकर वरशैणी चले गए और फिर खीरगंगा से लिए पैदल निकल गए। उसके बाद खीरगंगा ट्रैकिंग रूट पर चल पड़े थे।

इसी बीच जब वे आइस प्वाइंट नामक स्थान पर एक कैफे में बैठे हुए थे तो इस दौरान दूसरी तरफ कुछ लोग शराब पी रहे थे। जिन्होंने बिना कारण के उनके साथ लड़ाई झगड़ा शुरू कर दिया और फिर पत्थर बरसाने शुरू कर दिए। पांचों दोस्त जान बचाकर खीरगंगा की तरफ भागे, लेकिन हमलावरों ने पत्थर बरसाना बंद नहीं किया।

प्रतीक ने बताया कि भागते हुए वे एक पत्थर के नीचे छिप गए, जबकि उनका दोस्त रोहित आगे भागता गया। अगले दिन उन्होंने अपने दोस्त की तलाश की, लेकिन वह नहीं मिला। एक व्यक्ति की मदद से वे बरशैणी पहुंचे और पुलिस को सूचित किया। जब वे पुलिस टीम के साथ दोबारा उसी रास्ते पर गए तो देखा कि रोहित का शव पार्वती नदी के किनारे पड़ा हुआ था।

छ: हमलावर गिरफ़्तार

पुलिस ने हमलावरों पर IPC की धारा 302, 34 के तहत दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है। इस मामले में दिनेश तमांग पुत्र महाजन तमांग निवासी बरशैणी, संगत राम व सूरज बहादुर निवासी बरशैणी, नेपाल के संदीप कुमार व मनोज कुमार तथा चंबा निवासी नवदीप को गिरफ्तार किया है। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।

जांच में कई पहलू सामने आए हैं, जिसमें यह कि हमला करने वाले संगत राम व दिनेश ने आईस प्वांइट में प्रतीक व इसके दोस्तों तुषार, सुधीर व नितिन व मृतक रोहित शेहरावत के साथ लड़ाई-झगड़ा किया। जब पांचो ड़र के मारे आगे खीरगंगा की तरफ को भागे तो संगत राम व दिनेश के अलावा सूरज व संदीप कुमार भी इनके साथ मिलकर चारों पीड़ितों के पीछे भागे। इनके साथ अन्य व्यक्ति भी शामिल हो सकते हैं।

शारीरिक चोट पहुंचाने की थी नियत

एसपी ने बताया कि हमलावरों की नियत इन पांचों को शारीरिक चोट पहुंचाने की थी। इसी मंशा से हमलावरों ने ऊपर पहाड़ी से पांचों के ऊपर पत्थर बरसाए, जिनमें से एक पत्थर रोहित शेहरावत  को लगा। पत्थर की चोट लगने के कारण वह नीचे ढ़लान में नदी की तरफ गिरा और लुढ़कता हुआ सीधा पार्वती नदी में चला गया। इतना ही नहीं हमलावर दोस्तों की तलाश में खीरगंगा तक पहुंच गए।

मामला स्पष्ट है कि हमलावरों की नियत इन पांचों को जान से मारने की थी। हमलावरों के हमले से रोहित शेहरावत की मृत्यु हो गई, जबकि चार दोस्त बच गए। पुलिस इस मामले की जांच में जुटी हुई है और शव का पोस्टमार्टम करने के बाद उसे परिजनों को सौंप दिया जाएगा।

पर्यटकों पर बढ़ रहे हमले

कभी सैलानियों के लिए सुरक्षित स्थान माने जाने वाले देव भूमि हिमाचल में विगत कुछ सालों में पर्यटकों पर हमले बढ़ते जा रहे हैं। पर्यटकों के साथ मारपीट, धोखाधड़ी, रेप, लूट, जान से मारना इत्यादि आपराधिक घटनाओं में वृद्धि हुई है जो चिंता का विषय है। एक और तो पर्यटन हिमाचल प्रदेश में आय का प्रमुख स्रोत है लेकिन पर्यटकों के साथ की गयी हरेक आपराधिक घटना से देव भूमि की शांतिपूर्ण और सुरक्षित वातावरण वाली छवि से धक्का लगता है जिससे कड़ाई से निपटने की आवश्यकता है।

Leave a Reply